तनाव (stress ) के कारण ,लक्षण,प्रकार और बचाव के घरेलु उपाय।

तनाव

तनाव

क्या आपको बार-बार सिर दर्द, भूख न लगना, थकावट के साथ नींद न आने की समस्या से जूझना पड़ रहा है? अगर ऐसा है, तो आप स्ट्रेस यानी तनाव में हैं। तनाव एक ऐसी गंभीर समस्या है, जो जीवन के किसी भी पड़ाव में व्यक्ति को अपनी चपेट में ले सकती है। इसे स्लो पॉइजन कहना गलत नहीं होगा। अगर वक्त रहते इस पर काबू नहीं पाया गया, तो तनाव के नुकसान गंभीर स्थिति खड़ी कर सकते हैं। तनाव से मुक्ति के लिए स्टाइलक्रेज के इस लेख से हम आपको न सिर्फ तनाव के लक्षण बताएंगे, बल्कि तनाव को दूर करने के उपाय की जानकारी भी देंगे। तनाव के परिणाम घातक हो सकते हैं, इसलिए इस लेख में हम आपको स्ट्रेस मैनेजमेंट के बारे में भी जानकारी देंगे।

इससे पहले कि आप तनाव से बचने के उपाय जानें, उससे पहले यह जानना जरूरी है कि तनाव क्या है? इसके बारे में हम आपको नीचे बता रहे हैं।

तनाव (स्ट्रेस )क्या है?

तनाव भावनात्मक होता है और इसे चेहरे पर साफ देखा जा सकता है। यह किसी भी घटना या विचार से आ सकता है, जो व्यक्ति को निराश, क्रोधित और बहुत ज्यादा दुखी कर सकता है। तनाव ऐसी समस्या है, जिसे खत्म नहीं किया जा सकता है, बल्कि इसे नियंत्रित किया जा सकता है। अगर तनाव लंबे समय तक रह जाए, तो यह घातक सिद्ध हो सकता है। तनाव मुख्य रूप से दो प्रकार के होते हैं, जिनके बारे में हम आपको नीचे बताएंगे ।

स्ट्रेस दो प्रकार के होते हैं –

  1. एक्यूट स्ट्रेस (Acute Stress)- यह अल्पकालिक तनाव है, जो जल्दी से दूर हो जाता है। यह तब होता है, जब आप अपने साथी के साथ झगड़ा करते हैं या ऐसी ही किसी अन्य कारण से। यह तब भी हो सकता है, जब आप कुछ नया या रोमांचक कार्य करते हैं। सभी लोगों को कभी न कभी इस तरह के तनाव का अनुभव जरूर होता है।
  1. क्रॉनिक स्ट्रेस (Chronic Stress) – यह तनाव लंबे समय तक रहता है। अगर आपको धन की समस्या है, वैवाहिक जीवन में समस्या हो रही है या काम से परेशानी हो रही है, तो आपको क्रॉनिक स्ट्रेस हो सकता है। किसी भी प्रकार का तनाव, जो हफ्तों या महीनों तक चलता है, वह क्रॉनिक स्ट्रेस हो सकता है। कई बार लोग क्रॉनिक स्ट्रेस से इतने ज्यादा आदी हो जाते हैं कि वो समझ ही नहीं पाते हैं कि यह कोई समस्या है। ऐसे में अगर इस पर ध्यान न दिया जाए, तो इससे स्वास्थ्य समस्याएं पैदा हो सकती हैं।
तनाव कैसे दूर करें इसे जानने से पहले आपके लिए यह जानना भी जरूरी है कि स्ट्रेस के कारण क्या-क्या हो सकते हैं? नीचे जानिए तनाव के कारण।

तनाव का कारण – Causes of Stress in Hindi

तनाव के कारण हर किसी में एक जैसे नहीं हो सकते हैं। स्ट्रेस के कारण प्रत्येक व्यक्ति के लिए अलग-अलग होते हैं। हालांकि, कुछ सामान्य कारणों के बारे में हम आपको नीचे जानकारी दे रहे हैं (1)।
  • शादी में झगड़े या तलाक होना।
  • कोई नया काम शुरू करना।
  • जीवनसाथी या करीबी परिवार के सदस्य की मृत्यु।
  • रिटायर होना।
  • पैसों की परेशानी।
  • किसी गंभीर बीमारी का होना।
  • काम में दिक्कत।
  • डिलीवरी के बाद स्ट्रेस होना।
  • घर में किसी प्रकार की समस्या।
तनाव को दूर करने के उपाय तक पहुंचने से पहले हम यह भी जान लेते हैं कि तनाव के लक्षण क्या-क्या होते हैं। नीचे हम आपको तनाव के लक्षण के बारे में जानकारी दे रहे हैं।

तनाव (स्ट्रेस) के लक्षण – Symptoms of Stress in Hindi

कई बार लोग तनाव के लक्षण को समझ नहीं पाते हैं, क्योंकि कई बार ये लक्षण सामान्य से लगते हैं। इसलिए, इन लक्षणों पर ध्यान देना जरूरी है। नीचे हम कुछ तनाव के लक्षण आपको बता रहे हैं, जो अगर बार-बार हों, तो उन्हें नजरअंदाज न करें ।

तनाव

तनाव

  • सिरदर्द
  • जरूरत से ज्यादा वजन बढ़ना या घटना
  • ऊर्जा की कमी
  • किसी चीज पर ध्यान केंद्रित करने में मुश्किल
  • थकावट
  • अनिद्रा या बहुत ज्यादा सोना
  • पेट खराब होना
  • कब्ज होना
  • यौन समस्याएं
  • मासिक धर्म में परेशानी
  • भूलने की समस्या
अब वक्त आ गया है उस भाग को पढ़ने का, जिसके लिए आप काफी देर से सोच रहे थे। नीचे जानिए तनाव के घरेलू इलाज।

तनाव दूर करने के लिए घरेलू उपाय – Home Remedies For Stress in Hindi

नीचे हम आपको स्ट्रेस को दूर करने के उपाय बता रहे हैं, जो बहुत ही आसान तो हैं ही साथ ही असरदार भी हैं। इसके अलावा, इनके नुकसान न के बराबर हैं। तो बिना देर किए हुए जानिए तनाव से मुक्ति पाने के घरेलू उपचार।

1. तुलसी

वर्षों से तुलसी का इस्तेमाल एक कारगर औषधि के रूप में किया जाता रहा है। सर्दी-जुकाम के साथ कई अन्य शारीरिक समस्याओं में इसका प्रयोग किया जाता है। स्ट्रेस कैसे दूर करें? इस सवाल का जवाब भी तुलसी में ही छुपा है। आप तनाव से मुक्ति पाने के लिए तुलसी का उपयोग कर सकते हैं। यह एंटी-स्ट्रेस की तरह काम करता है और इसके नियमित सेवन से तनाव की समस्या कम हो सकती है (2)। तनाव के लिए आप तुलसी के कुछ पत्तों का सेवन कर सकते हैं या तुलसी की चाय बनाकर भी पी सकते हैं।
2. अश्वगंधा
कई खूबियों से भरपूर अश्वगंधा कई वर्षों से आयुर्वेदिक औषधि के रूप में उपयोग किया जा रहा है। इससे कई बीमारियों का इलाज संभव है और उन्हीं में से एक है स्ट्रेस यानी तनाव। यह अडाप्टोजेनिक एक्टिविटी (Adaptogenic Activity) करता है, यानी यह शरीर को तनाव से लड़ने या उससे पार पाने में मदद करता है। इससे तनाव से मुक्ति पाने में मदद मिल सकती है (3) (4) (5)। आप चाहें तो डॉक्टरी परामर्श पर अश्वगंधा का पाउडर या कैप्सूल का सेवन गर्म दूध के साथ कर सकते हैं।
3. लैवेंडर ऑयल
मूड ठीक करने में एसेंशियल ऑयल कारगर भूमिका निभा सकते हैं। आप स्ट्रेस को दूर करने के लिए लैंवेंडर ऑयल का चुनाव कर सकते हैं। इस तेल की सुगंध आपको तरोताजा करने का काम करेगी। शोध के अनुसार, लैवेंडर स्ट्रेस को कम करने में मदद कर सकता है (6) (7)। स्ट्रेस दूर करने के लिए आप डिफ्यूजर में लैंवेंडर ऑयल का इस्तेमाल कर अरोमा थेरेपी ले सकते हैं।
4. कैमोमाइल ऑयल
लैवेंडर ऑयल की तरह कैमोमाइल ऑयल भी तनाव को कम करने में मददगार हो सकता है। कैमोमाइल ऑयल की अरोमा थेरेपी से काफी हद तक तनाव कम हो सकता है और नींद में भी सुधार हो सकता है। इसके नियमित उपयोग से तनाव के लक्षण कम हो सकते हैं। हालांकि, यह कहना मुश्किल है कि तनाव दोबारा नहीं होंगा, लेकिन आप इसको एक बार ट्राई जरूर कर सकते हैं (8) (9)।
5. ग्रीन टी
ग्रीन टी के फायदे अनेक हैं। स्ट्रेस को दूर करने में भी इसके लाभ देखे जा सकते हैं। लो कैफीन ग्रीन टी यानी जिस ग्रीन टी में कैफीन की मात्रा कम है, उसके सेवन से न सिर्फ तनाव से मुक्ति मिलेगी, बल्कि नींद भी अच्छी आएगी। इतना ही नहीं इसमें मौजूद थियानाइन (Theanine-एक प्रकार का केमिकल) में एंटी-स्ट्रेस गुण मौजूद होते हैं, जिस कारण स्ट्रेस से मुक्ति मिल सकती है (10) (11)।
6. ब्राह्मी
अन्य जड़ी-बूटियों की तरह ही ब्राह्मी भी एक जड़ी-बूटी है, जो मस्तिष्क के लिए लाभकारी है और तनाव को कम करने में भी मददगार साबित हो सकती है। इसका अडाप्टोगेनिक गुण (Adaptogenic Property) एक्यूट और क्रॉनिक दोनों तरह के स्ट्रेस के लिए लाभकारी हो सकता है। आसान शब्दों में आप यह समझ सकते हैं कि इसमें एंटी-स्ट्रेस गुण भी मौजूद होता है, जो तनाव से मुक्ति दिलाने में मददगार हो सकता है (12) (13)। आप डॉक्टर की सलाह पर ब्राह्मी का सेवन कर सकते हैं।
7. शंखपुष्पी
ऊपर हमने कुछ जड़ी-बूटियों के बारे में आपको बताया और उन्हीं की तरह एक और औषधि इस लिस्ट में शामिल है, जिसका नाम है शंखपुष्पी है। यह मनुष्य के लिए एक प्राकृतिक उपहार है, जो कई तरह की परेशानियों को कम करने में मदद कर सकती है। इसमें एंटी-स्ट्रेस गुण मौजूद होता है, जो तनाव को दूर करने में मदद कर सकता है। इतना ही नहीं यह याददाश्त तेज करने में भी मददगार साबित हो सकता है। डॉक्टरी सलाह पर आप स्ट्रेस को दूर करने के लिए शंखपुष्पी का सेवन कर सकते हैं (14) (15) (16)।
शरीर और मस्तिष्क को स्वस्थ रखने के लिए डाइट की भी अहम् भूमिका होती है। इसलिए, स्ट्रेस को दूर करने के उपाय में आपका आहार भी बहुत महत्वपूर्ण है। इस कारण हम आपको नीचे कुछ खाद्य पदार्थों के बारे में बता रहे हैं, जो तनाव से मुक्ति पाने में आपकी मदद कर सकते हैं।
तनाव के लिए आहार – Diet For Stress in Hindi
अगर स्ट्रेस को कम करने की बात करें, तो खाना भी स्ट्रेस को दूर करने में एक मुख्य भूमिका निभाता है। इसलिए, हम आपको नीचे स्ट्रेस दूर करने के लिए आहार के बारे में बता रहे हैं, जो आपके स्ट्रेस के लक्षण को कम या तनाव से बचाने में मदद कर सकते हैं (17) (18)।
संतरा
हरी-पत्तेदार सब्जियां जैसे – पालक
चॉकलेट
अलसी
साबुत अनाज
मछली
अंडा
केला
ब्रोकली
संतुलित मात्रा में चाय/कॉफी
अखरोट
डेयरी उत्पाद
खूब पानी पीना
स्ट्रेस को कम करने के लिए स्ट्रेस मैनेजमेंट बहुत जरूरी है। अगर सही वक्त पर तनाव के लक्षण पहचानकर उसका इलाज नहीं किया गया, तो मुसीबत और ज्यादा बढ़ सकती है। इसलिए, नीचे हम आपको तनाव (स्ट्रेस) के कुछ अन्य इलाज के बारे में भी जानकारी दे रहे हैं।
तनाव (स्ट्रेस) का इलाज – Treatment of Stress in Hindi
आप तनाव के घरेलू इलाज के साथ-साथ कुछ अन्य इलाज पर भी ध्यान दे सकते हैं। घरेलू उपचार के साथ-साथ अगर आप अपनी जीवनशैली पर भी ध्यान देंगे, तो घरेलू इलाज और आसान हो जाएंगे और जल्दी असर कर सकते हैं। नीचे हम उन्हीं के बारे में आपको जानकारी दे रहे हैं (19) (20)।
व्यायाम करें – हर रोज सुबह व्यायाम की आदत डालें। बाहर खुली हवा में घूमने जाएं, पार्क में टहलें। ये सब करने से आपके मूड में अपने आप बदलाव आना लगेगा और आप खुद को स्ट्रेस फ्री महसूस करने लगेंगे।
पूरी नींद लें – नींद पूरी करें, हर रोज सात से आठ घंटे की नींद लें। जल्दी सोएं और जल्दी उठें और जरूरत से ज्यादा न सोएं।
स्वस्थ आहार लें – अच्छा और स्वस्थ खाना खाएं। हरी-सब्जियों और फलों को अपनी डाइट में शामिल करें। सही वक्त पर खाना खाएं।
तनाव से बचने के उपाय जानने के बाद भी आपके मन में अभी भी तनाव कैसे दूर करें, इस सवाल ने थोड़ी-बहुत जगह बनाकर रखी है, तो नीचे बताई गई बातों को जानने के बाद वो दूर हो जाएंगी ।
तनाव से बचने के उपाय – Prevention Tips for Stress in Hindi
नीचे हम आपको कुछ टिप्स बता रहे हैं, जो स्ट्रेस मैनेजमेंट में आपके लिए सहायक हो सकते हैं (19) (20) (21)।
ध्यान लगाएं – आप रोजाना निर्धारित समय का चुनाव कर अपनी सारी चिंताओं को भूलकर ध्यान लगाएं। इससे न सिर्फ आपका मन शांत होगा, बल्कि आपको अच्छा लगेगा और आपके मूड में भी बदलाव आएगा।
अपनी जीवनशैली को संतुलित करें – सही वक्त पर सोना, उठना और स्वस्थ खाना खाएं। अपनी दिनचर्या और जीवनशैली में बदलाव करें। ज्यादा तेल मसाले वाला खाना न खाएं। साथ ही लोगों से बात करें और घुले-मिले।
अपनी भावनाओं को व्यक्त करें – आपने तो सुना ही होगा कि लाफ्टर इज दी बेस्ट मेडिसिन (Laughter is the best Medicine) तो इस कहावत को अपने निजी जिंदगी में भी आजमाएं। हंसे, लोगों से बात करें, उन्हें हंसाए और अपनी भावनाओं को व्यक्त कर खुश रहने की कोशिश करें।
ऐसा कुछ करें जिसमें आपको मजा आए – उन गतिविधियों पर ध्यान केंद्रित करें, जिन्हें करने में आपको आनंद आता हो, जैसे लिखना, पढ़ना या टीवी देखना आदि। अपनी मन की बातों को डायरी में लिखें या किताबें पढ़ें। जो अच्छा लगे वो करें, लेकिन ध्यान रहे कि इससे दूसरों को कोई नुकसान न हो।
प्रियजनों से मिलें – जो लोग आपके करीबी हैं या आपको जिनके साथ अच्छा लगता है, उनसे मिले और बातें करें। अपनी भावनाओं को व्यक्त करें और चुप-चुप न रहे। अपनी परेशानी को बोलकर व्यक्त करें, क्योंकि जब तक आप लोगों को अपनी समस्याएं नहीं बताएंगे, तब तक आपको अपनी परेशानी का हल नहीं मिलेगा।
नजरिया बदलें – अपनी नकारात्मक सोच को बदलें और सकारात्मक सोच को अपनाएं। अपने देखने के नजरिए को बदलें, तभी आप खुश हो सकेंगे।
योग – अगर एक्सरसाइज नहीं पसंद, तो तनाव से मुक्ति पाने के लिए आप योग का सहारा भी ले सकते हैं। ध्यान रहे कि कोई भी एक्सरसाइज या योग विशेषज्ञ की देखरेख के बिना न करें।
‘न’ बोलना सीखें – कभी भी दबाव में आकरस्ट्रेस किसी चीज के लिए ‘हां’ न करें, बल्कि जहां जरूरत पड़े वहां ‘न’ बोलना सीखें। अगर आपको किसी की मदद की जरूरत हो, तो उस बारे में भी बात करें।
नोट : अगर ऊपर बताए गए स्ट्रेस को दूर करने के उपाय में उपयोग की गई किसी भी सामग्री से आपको एलर्जी होती है, तो एक बार डॉक्टर या विशेषज्ञ से सलाह जरूर करें। इसके अलावा, अगर बताए गए तरीकों को अपनाने के बाद भी आप खुद को स्ट्रेस में महसूस कर रहे हैं और तनाव से मुक्ति नहीं मिल पा रही है, तो बिना देर करते हुए डॉक्टर से संपर्क करें।
वक्त रहते अगर आप स्ट्रेस बचने के उपाय नहीं करेंगे, तो तनाव के परिणाम काफी हानिकारक हो सकते हैं। ऊपर स्ट्रेस को दूर करने के उपाय जानने के बाद आप यह तो समझ ही गए होंगे कि तनाव का इलाज मुमकिन है। समय रहते स्ट्रेस से मुक्ति पाने के लिए आप लेख में बताए गएसे स्ट्रेस व के घरेलू इलाज और सावधानियों का पालन जरूर करें। साथ ही तनाव के लक्षण पर ध्यान दें। अगर आपके पास भी स्ट्रेस मैनेजमेंट के कुछ टिप्स या अनुभव हैं, तो नीचे कमेंट बॉक्स में जरूर शेयर करें। याद रखें कि जितनी जल्दी आप तनाव को दूर करने के उपाय करेंगे, उतनी जल्दी आप स्वस्थ और खुशहाल जीवन व्यतीत कर पाएंगे।

You may also like...

Leave a Reply

%d bloggers like this: