तिहरे हत्याकांड में सजायाफ्ता की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत,जांच के आदेश

तिहरे हत्याकांड में सजायाफ्ता कैदी की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत, न्यायिक जांच के आदेश

छपरा जेल में सजायाफ्ता कैदी की मौत.

चिकित्सक अखिलेश कुमार का कहना है एक कैदी को मृत अवस्था में ही सदर अस्पताल लाया गया था.

छपरा. वर्ष 2009 में सारण जिले (Saran district) के रसूलपुर में हुए तिहरे हत्याकांड के सजायाफ्ता कैदी इशनाथ यादव की मंडल कारा (chhapra Jail) में संदिग्ध स्थितियों में मौत हो गई. जेलकर्मियों ने शव को सदर अस्पताल (Hospital) भेजा जहां चिकित्सकों ने ईशनाथ यादव को मृत (Dead) घोषित कर दिया. पूर्व मुखिया इशनाथ यादव रसूलपुर के असहनी गांव में तिहरे हत्या मामले के मुख्य आरोपी से जिन्हें फास्ट ट्रैक कोर्ट (Fast Track Court) ने हाल ही में उम्र कैद की सजा सुनाई थी.

जानकारी के अनुसार आज सुबह परिजन जब जेल पहुंचे तब उन्होंने इशनाथ यादव को अस्पताल जाते देखा जहां पहुंचने पर उनके मौत की खबर मिली. परिजन इस पूरे मामले को सवालों के घेरे में खड़ा कर रहे हैं. हालांकि जेल में हुए इस मौत के मामले की न्यायिक जांच के आदेश दे दिए गए हैं.

छपरा जेल में कैदी की मौत

छपरा सदर अस्पताल में इलाज के लिए कैदी को लाया गया था, लेकिन अस्पताल के चिकित्सक ने कहा कि उन्हें मृत अवस्था में लाया गया था.

जेल अधीक्षक मनोज कुमार सिन्हा ने बताया कि हर्ट अटैक की शिकायत के बाद उन्हें सदर अस्पताल भेजा गया था, जहां इलाज के क्रम में कैदी की मौत हो गई. वहीं, सदर अस्पताल के चिकित्सक अखिलेश कुमार का कहना है एक कैदी को मृत अवस्था में ही सदर अस्पताल लाया गया था.

कैदी के पुत्र मुकेश यादव ने बताया कि कैदी की हालत पूरी तरह ठीक थी और उनकी बीमारी की कोई सूचना जेल प्रशासन ने परिजनों को नहीं दी थी. अचानक इस घटना के बाद परिजन सदमे में हैं.

रिपोर्ट- संतोष गुप्ता

सौजन्य News18

You may also like...

Leave a Reply

%d bloggers like this: