पंडित किराये पर देने वाला स्टार्टअप हुआ हिट, इसके जरिए पति-पत्नी ने कमाएं करोड़ों

मकरंद और प्राजक्ता की माय ओम नमो एप विदेश में हिट हो गई है. उनकी एप पर आप पंडित बुक करने अलावा पूजा साम्रगी भी खरीद सकते हो.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 11, 2018, 11:28 AM IST
  • Share this:
संखे और पिंपले परिवार में कई साल से सत्यनारायण की पूजा करने का रिवाज है, लेकिन इस साल की पूजा कुछ अलग है. आज सारे घरवाले सुकून से पाठ सुनने बैठे हैं, न कोई हड़बड़ी है न ही काम की टेंशन. इस साल की माय ओम नमो ऐप की बदौलत पूजा अलग और खास बनी है. इस ऐप के जरिए ही पंडित बुक किए जा सकते हैं और ई-स्टोर में पूजा सामग्री ऑर्डर भी की जा सकती है. यहां तक कि फूल, केले के पत्ते और प्रसाद का जिम्मा भी माय ओम नमो ऐप लेता है. आपको बता दें कि कंपनी का इस साल के अंत तक 1 करोड़ डॉलर (करीब 72 करोड़ रुपये) की आय और 2020 तक कंपनी का वैल्युएशन 10 करोड़ डॉलर करने का का लक्ष्य है.कंपनी के पास फिलहाल 2500 रजिस्टर्ड पुरोहित हैं जो 12 भाषाओं में पूजा कर सकते हैं. पिछले 2 साल में भारत में कंपनी 5000 पूजा और यूएई में 1000 पूजा कर चुकी है. (ये भी पढ़ें-इन देशों की करेंसी के सामने बेहद कमजोर है अमेरिकी डॉलर, यहां देखें पूरी लिस्ट)

ऐसे शुरू हुई कंपनी- मकरंद पाटिल ग्राहकों के लिए माय ओम नमो ऐप लेकर आए हैं. दुबई में पूजा के लिए पंडित मिल पाने की अड़चन के बाद मकरंद और उनकी पत्नी प्राजक्ता ने टेक्नोलॉजी की मदद से आध्यात्म से जुड़ी सारी दिक्कतों का हल ढूंढने की कोशिश की और तगड़ी रिसर्च के बाद 2016 में स्पिरिच्युअल इंडस्ट्री के वन स्टॉप माय ओम नमो की शुरुआत की गई. आज इस ऐप पर ग्राहकों के लिए 156 पूजा करने के विकल्प मौजूद हैं.

इस कारोबार को शुरू करते वक्त पूजा करवाने में ग्राहकों को किसी परेशानी का सामना ना करना पड़े इस बात पर फोकस करते हुए बिजनेस डिजाइन किया गया. 30 अरब डॉलर के स्पिरिच्युअल मार्केट में धमाकेदार एंट्री लेने के लिए जरुरी था इस क्षेत्र की बारिकियां समझ लेना और इस काम के लिए जानकारों की मदद फाउंडर्स के काम आई.

क्या करती है उनकी ऐप- माय ओम नमो के ई-स्टोर में ऑर्गेनिक पूजा सामग्री के अलावा डेली पंडित एक्टिविटी, ब्राम्हण भोज, भजन कीर्तन, माता की चौकी, मंदिर में दान- दक्षिणा देना, मंदिर में वीआईपी एंट्री जैसी सर्विसेज हैं. साथ ही एस्ट्रोलॉजी, वास्तु एक्सपर्ट, टैरो कार्ड रीडर की सर्विसेज का फायदा भी ग्राहक यहां से उठा सकते हैं. ग्राहकों के सुझाव और जरुरतों को ध्यान में रखते हुए कंपनी इस प्लेटफॉर्म पर नई-नई सर्विसेज शामिल करती रहती है.

इस साल 72 करोड़ की आमदनी की उम्मीद- माय ओम नमो में फाउंडर्स ने 50 लाख का स्टार्टअप कैपिटल लगाया और महज दो सालों में भारत के 10 शहरों में और यूएई, स्पेन घाना जैसे मार्केट में पहुंच बनाई है. हाल ही में कंपनी ने यूएई के एचएनआई से 10 लाख डॉलर की प्री-सीरीज फंडिंग जुटाई है. अब माय ओम नमो का दायरा मलेशिया, सिंगापुर, बहरीन, ओमान और यूके के बाजारों में बढ़ने जा रहा है. साथ ही बच्चों के लिए हिंदू धर्म की पौराणिक कथाओं पर कार्टून सीरिज बनाने की तैयारी फाउंडर्स कर रहे हैं. कंपनी का इस साल के अंत तक 1 करोड़ डॉलर की आय और 2020 तक कंपनी का वैल्युएशन 10 करोड़ डॉलर करने का का लक्ष्य है.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए इनोवेशन से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 11, 2018, 7:23 AM IST

Loading…

You may also like...

Leave a Reply

%d bloggers like this: