वायु प्रदूषण से बढ़ सकता है मानसिक बीमारियों का खतरा:अध्ययन

वायु प्रदूषण से बढ़ सकता है मानसिक बीमारियों का खतरा:अध्ययन

यह स्टडी अमेरीका और डेनमार्क के लोगों पर की गई. अब सोच लीजिए कि भारत की क्या स्थिति होगी. भारत के तो कई शहर दुनिया के सबसे प्रदूषित जगहों में से एक हैं

यह स्टडी अमेरीका और डेनमार्क के लोगों पर की गई. अब सोच लीजिए कि भारत की क्या स्थिति होगी. भारत के तो कई शहर दुनिया के सबसे प्रदूषित जगहों में से एक हैं

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 5, 2019, 3:16 PM IST
  • Share this:
वायु प्रदूषण से इंसानों में मानसिक बीमारियों का खतरा बढ़ता है. पीएलओएस बायोलॉजी (PLOS Biology) नाम के जर्नल में छपे एक अध्ययन के अनुसार हवा,पानी और खाने में पाए जाने वाले प्रदूषक कणों का असर आपके मानसिक स्वास्थ्य पर पड़ता है. रिसर्च में पाया गया कि हवा या पानी में प्रदूषण से मानसिक समस्याएं जैसे, बाइपोलर डिसॉर्डर, डिप्रेशन, पर्सनैलिटी डिसॉर्डर, सिजोफेनिया जैसी बीमारियां होने का खतरा बढ़ जाता है. यह स्टडी अमेरीका और डेनमार्क के लोगों पर की गई. अब सोच लीजिए कि भारत की क्या स्थिति होगी. भारत के तो कई शहर दुनिया के सबसे प्रदूषित जगहों में से एक हैं. ग्रीनपीस के अनुसार दुनिया के सबसे 10 प्रदूषित शहरों में से 7 भारत के हैं.रिसर्चर्स ने अत्यधिक प्रदूषित इलाके में रह रहे लोगों की मानसिक स्थिति की जांच की. पाया गया कि हवा, पानी और यहां तक ​​कि भोजन में मौजूद प्रदूषक शरीर में पहुंच जाते हैं और नर्व टिश्यूज़ में सूजन पैदा करते हैं. इस क्षति से मस्तिष्क में शिथिलता और कई मनोरोग हो सकते हैं. रिसर्च में जो सबसे चौंकाने वाली बात सामने आई वह यह कि मानसिक बीमारी का जितना संबंध प्रदूषण से है उतना किसी अनुवांशिक या स्वास्थ्य कारण से नहीं है.

इस साल जून में, हिंदू बिजनेस लाइन ने बताया कि प्रदूषण के कारण भारत में औसत जीवन प्रत्याशा 2.6 साल कम हो गई है. नेशनल मेंटल हेल्थ सर्वे 2015-16 के अनुसार, भारत में न्यूरोसाइकिएट्रिक विकारों के नवीनतम सरकारी दस्तावेज़, ’18 साल से ऊपर के लगभग 11% भारतीय मानसिक विकारों से पीड़ित हैं और उनमें से अधिकांश विभिन्न कारणों से देखभाल नहीं करते हैं’.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए वेलनेस से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 5, 2019, 3:16 PM IST

Loading…

You may also like...

Leave a Reply

%d bloggers like this: