स्‍नैपडील कर सकती है 1000 लोगों की छंटनी, विलय डील नहीं होने का असर

फ्लिपकार्ट और स्‍नैपडील के बीच विलय संबंधी डील नहीं होने के बाद स्‍नैपडील में छंटनी होने की खबर है. स्नैपडील ने सोमवार को ही देश की टॉप ई-कॉमर्स कंपनी के ऑफर को ठुकरा दिया. पिछले 5 महीने से दोनों के बीच अधिग्रहण को लेकर बातचीत चल रही थी. खबर के मुताबिक कंपनी 80 प्रतिशत कर्मचारियों को नौकरी से निकालने की योजना बना रही है, जो 1000 के आसपास हो सकते हैं.जैस्पर इन्फोटेक ने बनाई नई योजनांए 
इसके बाद से जैस्पर इन्फोटेक ने इस कंपनी को अच्छे से चलाने के लिए कई योजनाएं बनाई हैं, जिनके चलते उन्होंने वर्कफोर्स कम करने का प्लान बनाया है. अब स्नैपडील स्वतंत्र तरीके से आगे बढ़ेगी और अपने दम पर बिजनेस चलाएगी.

एक महीने का सेवेरंस पैकेज देकर कर्मचारियों को निकाल रही है  स्‍नैपडील 
स्नैपडील के एक कर्मचारी ने बताया कि कंपनी अपने कर्मचारियों को एक महीने का सेवेरंस पैकेज देकर बिना नोटिस के नौकरी छोड़ने के लिए कह रही है. फरवरी में हुई बातचीत के समय यह तय हुआ था कि कंपनी कर्मचारियों को 3 महीने की सैलरी देगी. कंपनी इस वर्ष की शुरुआत में लगभग 600 कर्मचारियों को निकाल चुकी है और अभी लगभग 1,300 कर्मचारी हैं.

सबसे ज्यादा नुकसान स्नैपडील में काम करने वाले लोगों को 
फ्लिपकार्ट और स्नैपडील की डील नहीं होने की वजह से सबसे ज्यादा नुकसान स्नैपडील में नौकरी करने वालों को हुआ है, क्योंकि इस डील के बाद रिटेंशन बोनस मिलने वाला था, जो अब नहीं मिलेगा. साथ ही अब कर्मचारियों को 3 महीने का सेवेरंस पैकेज भी नहीं दिया जा रहा है.

फ्रीचार्ज को बेचने के बाद हुई फाइनेंशियल ‘स्टेबल’ 
कंपनी के बयान के मुताबिक कुछ गैर-महत्वपूर्ण संपत्ति को बेचकर ऐसी उम्मीद है कि स्नैपडील फाइनेंशियल तौर पर आत्मनिर्भर कंपनी बन जाएगी. कुछ ही दिन पहले स्नैपडील ने डिजिटल पेमेंट प्लेटफार्म फ्रीचार्ज एक्सिस बैंक को 385 करोड़ रुपए में बेचा है, जिससे कंपनी फाइनेंशियल ‘स्टेबल’ हो गई है.

ये भी पढ़ें: अकाउंट नंबर बदले बिना अब मनचाहे बैंक में खोल सकेंगे खाता
बिहार पुलिस कांस्टेबल की 9900 वैकेंसी, 30 अगस्त तक कर सकते हैं आवेदन

You may also like...

Leave a Reply

%d bloggers like this: